img

UN की शीर्ष अदालत ने क्षेत्रों पर Israel के कब्जे की वैधता पर विशेषज्ञ राय देने के लिए बैठक बुलाई

UN की शीर्ष अदालत ने क्षेत्रों पर Israel के कब्जे की वैधता पर विशेषज्ञ राय देने के लिए बैठक बुलाई

संयुक्त राष्ट्र की शीर्ष अदालत ने फलस्तीनी राष्ट्र के लिए मांगी गई भूमि पर इजराइल के 57 वर्षों के कब्जे की वैधता पर एक गैर-बाध्यकारी सलाहकारी राय देने के लिए सुनवाई शुरू की है। यह निर्णय इजरायल की नीतियों की तुलना में अंतरराष्ट्रीय राय पर अधिक प्रभाव डाल सकता है।

हेग (नीदरलैंड्स) । संयुक्त राष्ट्र की शीर्ष अदालत ने फलस्तीनी राष्ट्र के लिए मांगी गई भूमि पर इजराइल के 57 वर्षों के कब्जे की वैधता पर एक गैर-बाध्यकारी सलाहकारी राय देने के लिए सुनवाई शुरू की है। यह निर्णय इजरायल की नीतियों की तुलना में अंतरराष्ट्रीय राय पर अधिक प्रभाव डाल सकता है। अंतरराष्ट्रीय न्यायालय के अध्यक्ष नवफ सलाम को विश्व भर के 15 न्यायाधीशों की समिति की राय पढ़ने में लगभग एक घंटे का समय लगने की उम्मीद है। शुक्रवार की सुनवाई गाजा पर इजराइल के 10 महीने के भीषण सैन्य हमले की पृष्ठभूमि में हो रही है। 

दक्षिणी इजराइल में हमास के हमलों के बाद उसने यह जवाबी कार्रवाई शुरू की थी। एक अलग मामले में, अंतरराष्ट्रीय न्यायालय दक्षिण अफ्रीका के इस दावे पर विचार कर रहा है कि गाजा में इजराइल का अभियान नरसंहार के बराबर है। इस दावे का इजराइल पुरजोर खंडन करता है। पश्चिम एशिया युद्ध में इजरायल ने 1967 में पश्चिमी तट, पूर्वी यरुशलम और गाजा पट्टी पर कब्जा कर लिया था। फलस्तीनी तीनों क्षेत्रों को एक स्वतंत्र राष्ट्र के रूप में चाहते हैं। इजराइल पश्चिमी तट को विवादित क्षेत्र मानता है, जिसका भविष्य बातचीत से तय किया जाना चाहिए। 

उसने हालांकि अपनी पकड़ मजबूत करने के लिए वहां बस्तियां बसा दी हैं। उसने पूर्वी यरुशलम पर कब्जा कर लिया है, लेकिन अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उसके इस कदम को मान्यता प्राप्त नहीं है। उसने 2005 में गाजा से अपनी सेना वापस बुला ली थी, लेकिन 2007 में हमास के सत्ता में आने के बाद भी इसने इस क्षेत्र की नाकेबंदी जारी रखी। अंतरराष्ट्रीय समुदाय आम तौर पर तीनों क्षेत्रों को अधिकृत क्षेत्र मानता है।

Read more
img

माइक्रोसॉफ्ट का सर्वर हुआ ठप्प, वैश्विक स्तर पर बैंक, Airport, मीडिया आउटलेट सेवाएं प्रभावित

माइक्रोसॉफ्ट का सर्वर हुआ ठप्प, वैश्विक स्तर पर बैंक, Airport, मीडिया आउटलेट सेवाएं प्रभावित

इस घटना के बाद माइक्रोसॉफ्ट ने गुरुवार को कहा कि वह मध्य अमेरिकी क्षेत्र में अपनी क्लाउड सेवाओं से संबंधित समस्याओं की जांच कर रहा है, जिसके कारण विश्व भर में सेवाएं बाधित हुई हैं। इस परेशानी के कारण बड़ी संख्या में लोग प्रभावित हुए है।

दुनियाभर में तमाम लोगों के कंप्यूटर पर माइक्रोसॉफ्ट का सर्वर ठप्प हो गया है। इस कारण दुनिया भर में बैंक से लेकर एयरलाइंस सर्विस पर काफी असर हुआ है। कंपनी द्वारा पिन किए गए मैसेज के अनुसार कई विंडो के यूजर्स को ब्यू स्क्रीन ऑफ डेथ एरर नजर आ रहा है।

इस घटना के बाद माइक्रोसॉफ्ट ने गुरुवार को कहा कि वह मध्य अमेरिकी क्षेत्र में अपनी क्लाउड सेवाओं से संबंधित समस्याओं की जांच कर रहा है, जिसके कारण विश्व भर में सेवाएं बाधित हुई हैं। इस परेशानी के कारण बड़ी संख्या में लोग प्रभावित हुए है। शुक्रवार की सुबह भी क्लाउड सर्विस बाधित होने के कारण दुनियाभर में कई इलाकों में परेशानी आ रही है। इस कारण एयरलाइंस की कई उड़ानों पर भी असर हुआ है। उड़ानों पर असर भारत से लेकर अमेरिका समेत कई देशों में देखने को मिला है।

दुनिया भर की प्रमुख एयरलाइन कंपनियों ने कहा कि इस व्यवधान से दिल्ली और मुंबई सहित उनकी उड़ान परिचालन पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा है। अकासा एयरलाइंस ने घोषणा की है कि उसकी कुछ ऑनलाइन सेवाएं मुंबई और दिल्ली हवाई अड्डों पर अस्थायी रूप से उपलब्ध नहीं रहेंगी। स्पाइसजेट ने एक बयान में यह भी कहा कि उसे उड़ान संबंधी अपडेट देने में फिलहाल तकनीकी समस्या का सामना करना पड़ रहा है।

इंडिगो एयरलाइंस ने भी कहा कि माइक्रोसॉफ्ट की खराबी के कारण उसके सिस्टम पर असर पड़ रहा है। उसने एक बयान में कहा, "इस दौरान बुकिंग, चेक-इन, बोर्डिंग पास तक पहुंच और कुछ उड़ानें प्रभावित हो सकती हैं।" वैश्विक स्तर पर, फ्रंटियर ग्रुप होल्डिंग्स इंक की इकाई, अमेरिका स्थित फ्रंटियर एयरलाइंस ने दो घंटे से अधिक समय तक उड़ानें रोक दीं और इसका कारण माइक्रोसॉफ्ट की सेवाओं में आई समस्या बताया। इस व्यवधान के कारण एक अन्य डिस्काउंट एयरलाइन, एलीगेंट एयर, के आरक्षण और बुकिंग पर भी असर पड़ा, जो लगभग 130 विमानों का परिचालन करती है और उसने कहा कि वह समस्याओं के समाधान पर काम कर रही है।

Read more
img

Presidential Post को लेकर Joe Biden जल्द कर सकते हैं बड़ी घोषणा, मीडिया रिपोर्ट्स में चर्चा

Presidential Post को लेकर Joe Biden जल्द कर सकते हैं बड़ी घोषणा, मीडिया रिपोर्ट्स में चर्चा

यहां तक की चुनावी दौड़ से पीछे हटने के लिए उनपर लगातार दबाव बनता जा रहा है। वहीं अब माना जा रहा है कि वर्तमान राष्ट्रपति जो बाइडेन राष्ट्रपति चुनाव में अपनी उम्मीदवारी को लेकर जल्द ही बड़ी घोषणा करने वाले है।

अमेरिका के राष्ट्रपति पद के चुनाव को लेकर इन दिनों कई तरह की चर्चाएं जोरो पर है। एक तरफ रिपब्लिकन पार्टी के उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप के साथ पहली बहस में ‘‘खराब’’ प्रदर्शन के बाद से लगातार चर्चा में बने हुए है। यहां तक की चुनावी दौड़ से पीछे हटने के लिए उनपर लगातार दबाव बनता जा रहा है। वहीं अब माना जा रहा है कि वर्तमान राष्ट्रपति जो बाइडेन राष्ट्रपति चुनाव में अपनी उम्मीदवारी को लेकर जल्द ही बड़ी घोषणा करने वाले है।

अमेरिकी मीडिया की रिपोर्ट में इसकी संभावना जताई गई है। दरअसल, पहली बहस में जो बाइडन ने खराब प्रदर्शन किया था। इसके साथ ही बाइडन का खराब स्वास्थ्य, उनके प्रतिद्वंद्वी ट्रंप की हत्या की कोशिश और सर्वेक्षणों में उनकी घटती लोकप्रियता जैसे कई कारणों के मद्देनजर डेमोक्रेटिक पार्टी के कई वरिष्ठ नेताओं ने राष्ट्रपति को चुनावी दौड़ से पीछे हटने का सुझाव दिया है। 

इस संबंध में ‘द न्यूयॉर्क टाइम्स’ ने कहा, ‘‘राष्ट्रपति बाइडन के कई करीबी लोगों ने बृहस्पतिवार को कहा कि उनका मानना ​​है कि उन्होंने (बाइडन ने) इस विचार को स्वीकार करना शुरू कर दिया है कि वह नवंबर में होने वाला चुनाव जीतने में संभवत: सक्षम नहीं हैं और उन्हें अपनी पार्टी के कई चिंतित सदस्यों की बढ़ती मांगों के आगे झुकते हुए दौड़ से बाहर होना पड़ सकता है।’’ 

बाइडन एक बार फिर कोरोना वायरस से संक्रमित हो गए हैं और राष्ट्रपति चुनाव प्रक्रिया के महत्वपूर्ण मोड़ पर उन्हें अपना प्रचार अभियान रोकना पड़ा है। वह डेलावेयर स्थित अपने आवास में पृथकवास में रह रहे हैं। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा ने भी बाइडन की उम्मीदवारी के बारे में डेमोक्रेटिक पार्टी के नेताओं के समक्ष निजी तौर पर चिंता व्यक्त की है। वहीं, प्रतिनिधि सभा की स्पीकर नैन्सी पेलोसी ने बाइडन (81) को निजी तौर पर आगाह किया है कि यदि वह उम्मीदवारी की दौड़ से पीछे नहीं हटते हैं तो डेमोक्रेटिक पार्टी सदन में नियंत्रण हासिल करने की क्षमता खो सकती है। 

‘न्यूयॉर्क टाइम्स’ की खबर में कहा गया, ‘‘शीर्ष डेमोक्रेटिक नेताओं के करीबी लोगों ने बृहस्पतिवार को कहा कि अब ऐसा लग रहा है कि बाइडन राष्ट्रपति पद की दौड़ से अंतत: पीछे हट जाएंगे। एक-दो दिन पहले पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा ने अपने मित्रों से कहा कि बाइडन की जीत की उम्मीद कम है।’’ 


‘वाशिंगटन पोस्ट’ ने बृहस्पतिवार रात अपनी खबर में कहा कि पेलोसी ने राष्ट्रपति को चुनाव प्रचार अभियान से पीछे हटने के लिए राजी करने की कोशिशें बढ़ा दी हैं और ओबामा ने भी कहा है कि बाइडन के जीतने की संभावना बहुत कम है। ‘द हिल’ के अनुसार, उपराष्ट्रपति कमला हैरिस ने उनके पार्टी उम्मीदवार बनने की संभावना के बीच चुनाव में उपराष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के लिए विकल्पों की तलाश शुरू कर दी है। अधिकतर मीडिया खबरों में कहा गया कि बाइडन मिलवाउकी में ‘रिपब्लिकन नेशनल कन्वेंशन’ के बाद अपनी उम्मीदवारों को लेकर घोषणा कर सकते हैं।

Read more
img

घायल हुए लेकिन ठीक है, सहयोगी ने हमले के बाद साझा किया Donald Trump की हेल्थ का अपडेट

घायल हुए लेकिन ठीक है, सहयोगी ने हमले के बाद साझा किया Donald Trump की हेल्थ का अपडेट

गोलीबारी में ट्रंप घायल हो गए लेकिन उनकी हालत ठीक है। राष्ट्रपति पद के रिपब्लिकन उम्मीदवार ट्रंप ने कहा कि गोली लगने से उनके दाएं कान के ऊपरी हिस्से में चोट लगी है। ट्रंप के सहयोगियों ने कहा कि वह अच्छे हैं और उनकी हालत ठीक है।

बटलर। अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने उन पर हुए हमले के तुरंत बाद रविवार को देशवासियों से एकजुटता और दृढ़ता का आह्वान किया। गोलीबारी में ट्रंप घायल हो गए लेकिन उनकी हालत ठीक है। राष्ट्रपति पद के रिपब्लिकन उम्मीदवार ट्रंप ने कहा कि गोली लगने से उनके दाएं कान के ऊपरी हिस्से में चोट लगी है। ट्रंप के सहयोगियों ने कहा कि वह अच्छे हैं और उनकी हालत ठीक है।

ट्रंप ने अपनी सोशल मीडिया साइट पर लिखा, ‘‘मुझे तुरंत लगा कि कुछ गड़बड़ है, क्योंकि मैंने एक तेज आवाज सुनी, गोलियां चलीं और तभी मुझे महसूस हुआ कि गोली मेरी त्वचा को चीरती हुई निकल गई। बहुत खून निकला।’’ उन्होंने कहा, ‘‘भगवान ने ही वह सब होने से रोक लिया जिसके बारे में सोचा भी नहीं था।’’ ट्रंप की पोस्ट के अनुसार, ‘‘ऐसे समय में सबसे अधिक महत्वपूर्ण है कि हम एकजुट रहें और अमेरिकियों के तौर पर अपना मूल चरित्र बनाए रखें। हम मजबूत और दृढ़संकल्पित बने रहें और बुराई को न जीतने दें।’’

एफबीआई ने रविवार को हमलावर की पहचान पेनसिल्वेनिया के बेथेल पार्क निवासी 20 वर्षीय थॉमस मैथ्यू क्रुक्स के रूप में की। उसके पास एक राइफल थी। ‘सीक्रेट सर्विस’ के कर्मियों ने उसे मार गिराया। गोलीबारी की इस घटना में ट्रंप की रैली में मौजूद एक व्यक्ति की जान चली गई और दो अन्य गंभीर रूप से घायल हो गए। यह हमला 1981 में तत्कालीन राष्ट्रपति रोनाल्ड रीगन को गोली मारे जाने के बाद से अमेरिका के किसी राष्ट्रपति या राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार की हत्या की सबसे संगीन कोशिश थी। ध्रुवीकरण से अत्यंत प्रभावित अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव से महज चार महीने पहले इस हमले ने सभी का ध्यान राजनीतिक हिंसा की ओर खींचा है। इसके बाद मिलवाउकी में सोमवार को शुरू होने वाले रिपब्लिकन नेशनल कन्वेंशन में सुरक्षा परिदृश्य बदला नजर आ सकता है।

आयोजकों ने कहा कि सम्मेलन योजनाबद्ध तरीके से ही आयोजित किया जाएगा। व्हाइट हाउस ने बताया कि ट्रंप के खिलाफ राष्ट्रपति चुनाव में किस्मत आजमा रहे राष्ट्रपति जो बाइडन को हमले के बारे में जानकारी दी गई। उन्होंने गोलीबारी के कई घंटे बाद ट्रंप से फोन पर बातचीत की। बाइडन ने कहा, ‘‘अमेरिका में इस तरह की हिंसा के लिए कोई जगह नहीं है।’’ उन्होंने डेलवेयर के रिहाबोथ बीच पर स्थित अपने बीच होम में सप्ताहांत की छुट्टियां बीच में छोड़कर जल्द वाशिंगटन वापसी की योजना बनाई है।

Read more
img

WHO की चेतावनी, अभी खत्म नहीं हुआ Covid-19, हर सप्ताह 1700 लोगों की हो रही मौत, ये दो वेरिएंट सबसे खतरनाक

WHO की चेतावनी, अभी खत्म नहीं हुआ Covid-19, हर सप्ताह 1700 लोगों की हो रही मौत, ये दो वेरिएंट सबसे खतरनाक

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा कि कोविड-19 अभी भी दुनिया भर में प्रति सप्ताह लगभग 1,700 लोगों की जान ले रहा है। इसके साथ ही डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक टेड्रोस एडनोम घेब्येयियस ने वैक्सीन कवरेज में गिरावट पर चेतावनी दी।
बॉलीवुड अभिनेता अक्षय कुमार एक बार फिर से कोरोना वायरस से संक्रमित हो गए हैं। इसके बाद कोरोना वायरस फिर सुर्खियों में है। जो लोग यह मन कर चल रहे थे कि कोरोना वायरस अब खत्म हो चुका है, उनकी चिंताएं भी बढ़ने लगी हैं। ऐसे में बड़ा सवाल यह है कि क्या कोरोना वायरस अभी खत्म नहीं हुआ है? आज हम आपको बताते है कि कोरोना वायरस को लेकर विश्व स्वास्थ्य संगठन का लेटेस्ट अपडेट क्या है?

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा कि कोविड-19 अभी भी दुनिया भर में प्रति सप्ताह लगभग 1,700 लोगों की जान ले रहा है। इसके साथ ही डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक टेड्रोस एडनोम घेब्येयियस ने वैक्सीन कवरेज में गिरावट पर चेतावनी दी। संयुक्त राष्ट्र स्वास्थ्य एजेंसी के प्रमुख ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, "मृत्यु की निरंतर संख्या के बावजूद, डेटा से पता चलता है कि स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं और 60 से अधिक उम्र के लोगों के बीच टीका कवरेज में गिरावट आई है, जो सबसे अधिक जोखिम वाले समूहों में से दो हैं।"

डब्ल्यूएचओ की सिफारिश है कि उच्चतम जोखिम वाले समूहों के लोगों को उनकी आखिरी खुराक के 12 महीने के भीतर कोविड-19 वैक्सीन मिल जाए। डब्ल्यूएचओ को सात मिलियन से अधिक कोविड मौतों की सूचना दी गई है, हालांकि महामारी की वास्तविक संख्या कहीं अधिक मानी जाती है। कोविड-19 ने अर्थव्यवस्थाओं को भी तहस-नहस कर दिया और स्वास्थ्य प्रणालियों को पंगु बना दिया। टेड्रोस ने मई 2023 में अंतरराष्ट्रीय सार्वजनिक स्वास्थ्य आपातकाल के रूप में कोविड-19 की समाप्ति की घोषणा की, यह उस समय से तीन साल से अधिक समय बाद है जब 2019 के अंत में चीन के वुहान में पहली बार वायरस का पता चला था।

बताया जा रहा है कि FLiRT और FluQE नाम के नए COVID वेरिएंट उच्च दर से फैल रहे हैं। हाल के महीनों में, COVID-19 के "FLiRT" सबवेरिएंट, विशेष रूप से ओमिक्रॉन वैरिएंट JN.1 के वंशजों ने ध्यान आकर्षित किया है। KP.1.1, KP.2 और JN.1.7 जैसे इन सबवेरिएंट में वायरस के स्पाइक प्रोटीन के अमीनो एसिड में उत्परिवर्तन शामिल हैं, विशेष रूप से F456L, V1104L और R346T। KP.2 विशेष रूप से महत्वपूर्ण रहा है, जिसने मई के आसपास ऑस्ट्रेलिया और अन्य जगहों पर COVID-19 संक्रमण में वृद्धि में योगदान दिया है। SARS-CoV-2 की सतह पर पाया जाने वाला स्पाइक प्रोटीन, वायरस को मानव कोशिकाओं से जुड़ने में मदद करता है। FLiRT सबवेरिएंट वायरस के आनुवंशिक कोड में यादृच्छिक उत्परिवर्तन से उत्पन्न होते हैं, जिसके परिणामस्वरूप स्पाइक प्रोटीन में परिवर्तन होता है।

 

Read more
img

PM Modi का रूस-ऑस्ट्रिया दौरा हुआ पूरा, लौटे दिल्ली, दोनों देशों से मजबूत संबंध बनाने में मिली सफलता

PM Modi का रूस-ऑस्ट्रिया दौरा हुआ पूरा, लौटे दिल्ली, दोनों देशों से मजबूत संबंध बनाने में मिली सफलता
उन्होंने वियना में भारतीय प्रवासी समुदाय के लोगों से भी बातचीत की। प्रधानमंत्री कार्यालय ने एक्स पर एक पोस्ट में कहा, "प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ऑस्ट्रिया की सफल यात्रा के बाद नई दिल्ली के लिए रवाना हुए।"
 
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी रूस और ऑस्ट्रिया की अपनी यात्रा संपन्न कर बुधवार को स्वदेश के लिए रवाना हो गए। इस यात्रा के दौरान उन्होंने ऑस्ट्रियाई राष्ट्रपति अलेक्जेंडर वान डेर बेलन और चांसलर कार्ल नेहमर से मुलाकात की तथा पर्यावरण और जलवायु परिवर्तन से निपटने सहित कई क्षेत्रों में द्विपक्षीय सहयोग बढ़ाने के तरीकों पर चर्चा की।
 
उन्होंने वियना में भारतीय प्रवासी समुदाय के लोगों से भी बातचीत की। प्रधानमंत्री कार्यालय ने एक्स पर एक पोस्ट में कहा, "प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ऑस्ट्रिया की सफल यात्रा के बाद नई दिल्ली के लिए रवाना हुए।"  अपनी यात्रा के दौरान प्रधानमंत्री ने दोनों नेताओं के साथ यूक्रेन संघर्ष और पश्चिम एशिया की स्थिति सहित विश्व में चल रहे विवादों पर भी चर्चा की।
 
मोदी ने किया पोस्ट
 
प्रधानमंत्री ने एक्स पर एक पोस्ट में कहा, "ऑस्ट्रिया की मेरी यात्रा ऐतिहासिक और अत्यंत उत्पादक रही है। हमारे देशों के बीच मैत्री में नई ऊर्जा जुड़ी है। वियना में विविध कार्यक्रमों में भाग लेकर मुझे खुशी हुई। चांसलर @karlnehammer, ऑस्ट्रियाई सरकार और लोगों के आतिथ्य और स्नेह के लिए आभार।" ऑस्ट्रिया की यात्रा के बाद प्रधानमंत्री मोदी गुरुवार सुबह दिल्ली के पालम हवाई अड्डे पर पहुंचे।
 
ऑस्ट्रिया की अपनी यात्रा से पहले मोदी पहले रूस गए, जहां उन्होंने राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ 22वें भारत-रूस शिखर सम्मेलन में भाग लिया। यूक्रेन संघर्ष के बाद यह उनकी पहली मॉस्को यात्रा थी। अपनी यात्रा के दौरान उन्होंने रूसी राष्ट्रपति पुतिन से कहा कि यूक्रेन संघर्ष का समाधान युद्ध के मैदान में संभव नहीं है और बम, बंदूक और गोलियों के बीच शांति वार्ता सफल नहीं होती है। मंगलवार को प्रधानमंत्री मोदी को राष्ट्रपति पुतिन ने दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय संबंधों को बढ़ावा देने में उनके योगदान के लिए आधिकारिक तौर पर 'ऑर्डर ऑफ सेंट एंड्रयू द एपोस्टल' पुरस्कार से सम्मानित किया। इस पुरस्कार की घोषणा 2019 में की गई थी। 
 
ऑस्ट्रिया की अपनी यात्रा के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारत ने दुनिया को 'बुद्ध' दिया है, 'युद्ध' नहीं, जिसका अर्थ है कि उसने हमेशा शांति और समृद्धि दी है और इसलिए देश 21वीं सदी में अपनी भूमिका को और मजबूत करने जा रहा है। बुधवार को वियना में भारतीय प्रवासियों को संबोधित करते हुए मोदी ने यह भी कहा कि भारत सर्वश्रेष्ठ, प्रतिभाशाली बनने, सबसे बड़ी उपलब्धियां हासिल करने और सर्वोच्च मील के पत्थर तक पहुंचने की दिशा में काम कर रहा है।
Read more
img
img

PM Narendra Modi के ऑस्ट्रिया के विएना पहुंचने पर बजा 'वंदे मातरम', देखें ऐसे हुआ स्वागत

PM Narendra Modi के ऑस्ट्रिया के विएना पहुंचने पर बजा 'वंदे मातरम', देखें ऐसे हुआ स्वागत

यह 41 वर्षों में पहली बार है जब किसी भारतीय प्रधानमंत्री ने ऑस्ट्रिया का दौरा किया है, इससे पहले पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने 1983 में ऑस्ट्रिया का दौरा किया था। इस बैठक के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने रूसी सेना में भर्ती भारतीय नागरिकों के बारे में चिंता जताई।

रूस की यात्रा के बाद मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ऑस्ट्रिया की राजधानी वियना पहुंचे है। वियना पहुंचने पर नरेंद्र मोदी के स्वागत में 'वंदे मातरम' गाया गया है। इसका वीडियो सोशल मीडिया पर भी जमकर वायरल हो रहा है। वीडियो में नरेंद्र मोदी के स्वागत में कलाकार वंदे मातरम गाते दिख रहे है।


समाचार एजेंसी पीटीआई द्वारा साझा किए गए एक वीडियो में, प्रधानमंत्री मोदी को वियना में कलाकारों के एक समूह द्वारा 'वंदे मातरम' गाने के दौरान खड़े देखा गया, जिसमें वायलिन वादक और कंसर्टमास्टर उनका मार्गदर्शन कर रहे थे। प्रधानमंत्री मोदी मंगलवार को (ऑस्ट्रिया के स्थानीय समयानुसार) ऑस्ट्रिया पहुंचे और ऑस्ट्रिया में भारतीय राजदूत शंभू कुमारन और ऑस्ट्रियाई विदेश मंत्री अलेक्जेंडर शालेनबर्ग ने उनका गर्मजोशी से स्वागत किया।

उन्होंने ऑस्ट्रियाई चांसलर कार्ल नेहमर द्वारा आयोजित रात्रिभोज में भाग लिया, जहां भारतीय प्रवासी समुदाय के सदस्यों ने उनका स्वागत किया। "वियना में आपका स्वागत है, प्रधानमंत्री @narendramodi! ऑस्ट्रिया में आपका स्वागत करना खुशी और सम्मान की बात है। ऑस्ट्रिया और भारत मित्र और साझेदार हैं। मैं आपकी यात्रा के दौरान हमारी राजनीतिक और आर्थिक चर्चाओं की प्रतीक्षा कर रहा हूँ!" कार्ल नेहमर ने एक्स पर एक पोस्ट में प्रधानमंत्री मोदी के साथ एक सेल्फी साझा करते हुए लिखा।

Read more
img

प्रधानमंत्री से मिलना एक बड़ा सौभाग्य, भारतीय प्रवासियों ने पीएम मोदी से मिलकर कुछ ऐसा दिया रिएक्शन

प्रधानमंत्री से मिलना एक बड़ा सौभाग्य, भारतीय प्रवासियों ने पीएम मोदी से मिलकर कुछ ऐसा दिया रिएक्शन

मॉस्को में ओस्टाकिनो टीवी टावर पर भारत और रूस के झंडे लहराए गए मॉस्को के प्रसिद्ध स्थलों में से एक ओस्टैंकिनो टीवी टॉवर, सोमवार को भारतीय और रूसी झंडे के रंगों में रोशन हुआ, जो राष्ट्रपति के साथ शिखर वार्ता के लिए प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की दो दिवसीय मॉस्को यात्रा की शुरुआत का प्रतीक है।

पीएम मोदी से मुलाकात और बातचीत के बाद, भारतीय प्रवासी के एक सदस्य ने कहा कि यहां रूस में हमारे प्रधानमंत्री से मिलना एक बड़ा सौभाग्य है। यह वास्तव में एक रोमांचकारी और आश्चर्यजनक क्षण था। पीएम मोदी से मिलने और बातचीत करने के बाद, भारतीय प्रवासी सदस्य तमन्ना ने कहा कि मैं बहुत आभारी हूं कि मुझे भारत के प्रधान मंत्री से मिलने का मौका मिला। वह आज मॉस्को पहुंचे। मेरे स्कूल के कई लोग उनसे मिलने का मौका मिला जो हम सभी के लिए वास्तव में एक महान अवसर है।

मॉस्को में ओस्टाकिनो टीवी टावर पर भारत और रूस के झंडे लहराए गए

मॉस्को के प्रसिद्ध स्थलों में से एक ओस्टैंकिनो टीवी टॉवर, सोमवार को भारतीय और रूसी झंडे के रंगों में रोशन हुआ, जो राष्ट्रपति के साथ शिखर वार्ता के लिए प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की दो दिवसीय मॉस्को यात्रा की शुरुआत का प्रतीक है।

1,771 फीट (540 मीटर) की ऊंचाई पर स्थित, ओस्टैंकिनो टीवी टॉवर दुनिया का चौथा सबसे ऊंचा और यूरोप का अपनी तरह का सबसे ऊंचा टॉवर है। 1967 में प्रसिद्ध सोवियत इंजीनियर निकोलाई निकितिन द्वारा निर्मित, यह रूसी प्रसारण का एक प्रमुख प्रतीक और मॉस्को में एक लोकप्रिय मील का पत्थर बना हुआ है, जो दुनिया भर के आगंतुकों को आकर्षित करता है। 

 

Read more
img

Rishi Sunak ने ब्रिटेन में प्रधानमंत्री पद हार की स्वीकार, लेबर पार्टी 300 पार पहुंची

Rishi Sunak ने ब्रिटेन में प्रधानमंत्री पद हार की स्वीकार, लेबर पार्टी 300 पार पहुंची

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री ऋषि सुनक ने लेबर पार्टी के नेता कीर स्टारमर के सामने हार स्वीकार कर ली है, जबकि कंजरवेटिव पार्टी चुनावों में ऐतिहासिक हार की ओर बढ़ रही है। हार होने पर ऋषि सुनक का बयान भी सामने आया है। ऋषि सुनक ने कहा कि ब्रिटिश जनता ने एक "गंभीर फैसला" सुनाया है।आवश्यकता है।

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री ऋषि सुनक ने लेबर पार्टी के नेता कीर स्टारमर के सामने हार स्वीकार कर ली है, जबकि कंजरवेटिव पार्टी चुनावों में ऐतिहासिक हार की ओर बढ़ रही है। स्टार्मर ब्रिटेन के अगले प्रधानमंत्री बनने की ओर अग्रसर हैं। चुनाव के रुझानों से पता चला है कि लेबर पार्टी हाउस ऑफ कॉमन्स में बहुमत का आंकड़ा पार कर चुकी है।

हार होने पर ऋषि सुनक का बयान भी सामने आया है। ऋषि सुनक ने कहा कि ब्रिटिश जनता ने एक "गंभीर फैसला" सुनाया है। इससे बहुत कुछ सीखने और विचार करने की आवश्यकता है। ब्रिटेन के प्रथम अश्वेत प्रधानमंत्री ऋषि सुनक ने कहा, "ब्रिटिश जनता ने आज रात एक गंभीर फैसला सुनाया है... और मैं इस हार की जिम्मेदारी लेता हूं।"

उन्होंने आगे कहा, "लेबर पार्टी ने यह आम चुनाव जीत लिया है और मैंने कीर स्टारमर को उनकी जीत पर बधाई देने के लिए फोन किया है।" जबकि आठ कंजर्वेटिव कैबिनेट मंत्रियों को अपनी सीटें गंवानी पड़ीं, सुनक ने उत्तरी इंग्लैंड में रिचमंड और नॉर्थलेरटन के अपने निर्वाचन क्षेत्र को बरकरार रखा, और 47.5% वोट हासिल किए। 

हार के बाद ऋषि सुनक ने कहा कि अनेक अच्छे, परिश्रमी कंजर्वेटिव उम्मीदवारों को, जो अपने अथक प्रयासों, अपने स्थानीय रिकॉर्ड और प्रदर्शन तथा अपने समुदायों के प्रति समर्पण के बावजूद आज रात हार गए, मैं खेद प्रकट करता हूँ।

Read more
img